Saturday, November 19, 2016

नहीं होते

यूँ तो लिखते बहुत हैं शेर सब सच्चे नहीं होते
जो बाहर से भले दिखते हैं सब अच्छे नहीं होते।।

जो लिखते हैं सियाही से मोहब्बत की इबारत को
कुछ एक शायर भी होते हैं सभी बच्चे नहीं होते।।

मोहब्बत तो मोहब्बत है किसी से हो ही जाती है
पर उसके नाम के लिख्खे कहीं पर्चे नहीं होते।।

पिता जो भी है लाता घर में मेहनत की कमाई से
वो बच्चों पर लुटाता खुद पे कुछ खर्चे नहीं होते।।

वफादारी का होता कत्ल है गंदी सियासत में
कि कुर्सी की लड़ाई में कोई अपने नहीं होते।।

जीवन का यही तो अर्थ है ये ही तो मतलब है
खुशी की रात भी आती है केवल गम नहीं होते।।

ये महफिल मौत की है एक ना एक दिन आओगे 'आखिर'
अमीरी और गरीबी के यहाँ चर्चे नहीं होते।।

।।आखिर।।

Monday, November 14, 2016

खुद को खोज रहा हूँ कब से महफिल में वीराने में

खुद को खोज रहा हूँ कब से महफिल में वीराने में
मिला नहीं मैं मंदिर मस्जिद गुरुद्वारा मैखाने में।।

मैं था नदियों सा चंचल मैं झरनों की झर्राहट था
मुझको बांध दिया झीलों सा जीवन की कड़वाहट ने।।

प्यार लुटाता था सब पर बस प्यार की बातें करता था
द्वेष द्वंद और घृणा समा दी इस दिल में घबराहट ने।।

इंसान था मैं शायद पहले सबकी बातें करता था
बाँट लिया है मैंने खुद को मंदिर और मजा़रों में।।

काट रहे हम एक दूजे को बस मजहब के नामों में
बहते देखीं खून की नदियाँ झूठी शान बचाने में।।

ईमान ही मेरा मजहब था रिश्तों-नातों के साए में
छूट गए हैं सब पीछे शोहरत की अंधी चाहत में।।

प्यार मैं करता था खुद से खुद को आगे मैं रखता था
भूल गया हूँ मैं खुद को इक उस चेहरे की चाहत में।।

।।आखिर।।