Friday, April 3, 2015

मोहब्बत में ज़रा सा आज खुद को आज़माने दे

मोहब्बत में ज़रा सा आज खुद को आज़माने दे
तेरे दिल में मुझे भी एक छोटा घर बनाने दे ॥

तेरी मुस्कान मेरे होठो की मुस्कान बन जाए
तेरी आँखों के आंसू को मेरी पलकों पे आने दे ॥

बहुत अच्छा है लगता चाँद तारों में सजा लेकिन
इसे एक दिन की खातिर मेरे आँगन को सजाने दे ॥

जो जलते हैं दिए हर शाम तन्हाई के आलम में
तेरी मौजूदगी में इनको धीरे से बुझाने दे ॥

मोहब्बत के कई अफ़साने हमने थे सुने अब तो
हमे भी बन के राँझा कोई अफ़साना बनाने दे ॥

अभी तक काफिरों सा दर-बदर भटका था मैं 'आखिर'
मोहब्बत को मेरा ईमान तुझको रब बनाने दे ॥

||आखिर||